shake hand

हाथ मिलाना

——

सवाल : क्या गीले हाथ से किसी काफ़िर या अहले किताब से हाथ मिलाया जा सकता है ?
जवाब : अगर यकीन हो तो हाथ नजिस हो जाएगा और अगर वोह शख्स काफ़िर ग़ैर किताबी हो तो आप को नमाज़ के लिए हाथ धोना पड़ेगा

सवाल :  मर्द का औरत और औरत का मर्द से हाथ मिलाने का क्या हुक्म है ?
जवाब : अगर हाएल या दस्ताने न हो तो जाएज़ नहीं है

सवाल : ऐसी नामहरम औरतों से हाथ मिलाना , जो हाथ न  मिलाने को एक तरह की तौहीन महसूस करती हैं , क्या हुक्म रखता है ?
जवाब : जाएज़ नहीं है , मगर हाएल के साथ जाएज़ है

सवाल : क्या काफ़िर औरतों से हाथ मिलाना हराम है ?
जवाब : हाँ , हराम है

सवाल : मेरी बेटी मेडिकल की स्टूडेंट होने की वजह से नामहरम से हाथ मिलाने पर मजबूर है क्या इस में शरई क़बाहत है ?
जवाब : जाएज़ नहीं है मगर सिर्फ मजबूरी में

सवाल : सलाम में इबतिदा  करने वाली लड़की या औरत से हाथ मिलाने का क्या हुक्म है ?
जवाब : हराम है

सवाल : किसी नामहरम औरत से हाथ मिलाने का क्या हुक्म है जबकि मना करने की सूरत में उन की नाराज़गी और क़तह राबता या वालिदैन के एह्तेराज़ का सबब हो सकता हो तो क्या हुक्म है ?
जवाब : नामहरम से हाथ मिलाना जाएज़ नहीं है हाँ अगर किसी हाएल या दस्ताने के साथ हो तो कोई हर्ज नहीं है

सवाल : मगरीबी मुमालिक में हाथ मिलाना एक तरह से सलाम करने के मत्र्द्फ़ है , कभी हाथ न मिलाना काम या स्कूल से इखराज का सबब बन जाता है तो क्या उन हालात में इसतिसनाइ तौर पर मुस्लमान मर्द या औरत हाथ मिला सकते हैं ?
जवाब : अगर किसी बड़े नुकसान का खतरा हो और दस्तानो वगैरा से भी इस मुश्किल से निजात न मिल सकती हो तो हाथ मिला सकते हैं

सवाल : मंगनी शुदा लड़की का अपने किसी नामहरम रिश्तेदार से हाथ मिलाने का क्या हुक्म है ?
जवाब : दस्ताने या किसी और हाएल के बगैर नामहरम से हाथ मिलाना जाएज़ नहीं है

Source : http://www.sistani.org/urdu/qa/01883/
Marja E Taqleed : Ayatollah Sayyid Ali Sistani